एलो वेरा Aloe Vera

एलो वेरा (Aloe Vera) के औषधीय गुण और उपयोग !

एलो वेरा (Aloe Vera) को आयुर्वेद में घृतकुमारी के नाम से भी जाना जाता है। सैंकड़ों ऐसी आयुर्वेदिक दवाएं हैं जिनमें एलोवेरा / घृतकुमारी  का उपयोग किया जाता है। आज हमें जानेगे घृतकुमारी / एलोवेरा के स्वास्थ्य लाभ और कुछ घरेलू उपचार।

एलोवेरा (घृतकुमारी) एक औषधीय रसीला पौधा है जिसका उपयोग जोड़ों के दर्द, त्वचा की समस्याओं, जिगर, वात (वायु से संबंधित), पाचन तंत्र, पाचन तंत्र, कब्ज  से संबंधित बिमारियों के उपचार के लिए किया जाता है।

एलो वेरा के पौधा का प्रयोग  दुनिया भर में विभिन्न चिकित्सा प्रणाली में सदियों से किया जाता आ रहा है। यह विटामिन का एक बड़ा स्रोत है और इसके जेल में विटामिन बी 12, विटामिन ए, विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, विटामिन सी, विटामिन ई और फोलिक एसिड आदि जैसे विटामिन होते हैं। अगर हम अपनी त्वचा पर एलो वेरा को लगाते है तो

चेहरे के त्वचा साफ सुथरी रहती है, कोई दाग एवं झुर्री को ठीक करने के लिए बहुत प्रभावी है इसके साथ साथ अगर कोई कीड़ा हमें कहीं से काट ले तो एलो वेरा (Aloe Vera) जीवाणुनाशक गुण खुजली और त्वचा की सूजन से राहत देते हैं। एलो वेरा हमारे पाचन में सुधार और बिमारियों से लड़ने की क्षमता को बढ़ाने के लिए सबसे अच्छे स्वास्थ्य टॉनिक में से एक है।

एलो वेरा Aloe Vera cream

एलो वेरा को  त्वचा के सूखापन, काले धब्बे या कोई और निशान या धब्बा जो हमारे चेहरे पर हो उसके लिए जो मॉइस्चराइज़र, फेस वॉश और क्रीम बनाई जाती है उसमे एलो वेरा का उपयोग किया जाता है। एलोवेरा की पत्तियों में जेल या गूदा होता है जिसे बाहरी या आंतरिक रूप से इस्तेमाल किया जा सकता है। शरीर में वात संबंधी समस्याओं को ठीक करने के लिए इसके गूदे का आंतरिक भाग 20-40 ग्राम लिया जा सकता है।

एलो वेरा जेल को ताजा या सब्जी, पराठे  और लड्डू में डालकर खाया जा सकता है। एलो वेरा का पराठे बनाने के लिए इसके गूदे को आटे मिलाकर हम अन्य पराठें की तरह बना सकते है। एलो वेरा का लड्डू बनाने के लिए इसके गूदे को देसी घी में सेक कर उसे आते में मिलाकर उसका लड्डू बना सकते है। इसके अलावा पल्प को तला जा सकता है और नमक डालकर सब्जी के रूप में खाया जा सकता है। एलोवेरा जूस जो अच्छे ब्रांड से बाजार में उपलब्ध है उसे पी सकते है।

Page Contents

एलो वेरा (Aloe Vera) के औषधीय गुण

एलो वेरा एक प्रतिरक्षा प्रणालि बूस्टर है इसके साथ साथ यह एक बहुत अच्छा निर्विषीकृत (Detoxifier) एवं मरीजों के लिए एक अच्छा पूरक आहार है जिसे ज्यादातर ऑपरेशन से पहले या बाद में दिया जाता है। एलो वेरा विभिन्न प्रकार के रोगों में उपयोगी है जैसे कि टाइप 2  मधुमेह (Type II Diabetes), गठिया, आँखों के रोग, कैंसर, पीलिया, घाव, यकृत की शिकायत, उल्टी, अस्थमा और पीलिया। एलो वेरा कब्ज से भी राहत देता है क्यूंकि यह एक अच्छा गैस्ट्रिक पीएच बनाए रखता है, आतों की सूजन(inflammatory bowel diseases), अपच, पेट और ग्रहणी संबंधी घाव (duodenal ulcers) में मदद करता है। दवाओं से होने वाले जठरशोथ (drug induced gastritis) और दवाओं के अन्य विपरीत प्रभावों को खत्म करने के लिए जैसे कि एंटीबायोटिक दवाओं, NSAIDs (नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स) और कीमोथेरेपी के साथ सहायक चिकित्सा में एलो वेरा देने की सलाह दी जाती है।

एलो वेरा जूस (Aloe Vera Juice) के स्वास्थ्य लाभ

एलो वेरा (Aloe Vera) के औषधीय गुण

एलो वेरा जूस (Aloe Vera Juice): के साथ पाचन तंत्र में सुधार: एलो वेरा के ताजे पत्तों से लुगदी निकालें और उन्हें कांच के जार में डाल दें और पानी को वाष्पित करने के लिए धूप में रखें। पाचन तंत्र को बेहतर बनाने के लिए नियमित रूप से सुबह इसका सेवन करें। एलोवेरा जूस पाचन तंत्र को साफ़  करने का प्राकृतिक साधन है। यह मल त्याग में सुधार करता है और कब्ज के उपचार में बहुत प्रभावी है। यह दस्त को धीमा करने में भी प्रभावी है।

शरीर में ऊर्जा का स्तर: एलो वेरा जूस (Aloe Vera Juice) को नियमित रूप से पीने से मोटापा दूर करने में मदद मिलती है और शरीर में ऊर्जा का स्तर बढ़ता है। यह थकान और थकावट को भी ठीक करता है।

शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढाने वाला : एलो वेरा जूस (Aloe Vera Juice) उन लोगो के अमृत है जिनकी रोगों से लड़ने की क्षमता समाप्त हो चुकी है क्योंकि एलो वेरा जूस (Aloe Vera Juice) सफेद रक्त कोशिकाओं को बढ़ा कर अन्य वायरस से लड़ने में शरीर की क्षमता को बढ़ा देता है।

एक बहुत अच्छा निर्विषीकृत: शरीर को निर्विषीकृत (डिटॉक्सीफाई) करने के लिए एलोवेरा जूस एक बेहतरीन प्राकृतिक उपचार है। जैसा कि हमें आजकल के अपने तनावपूर्ण जीवन, प्रदूषण और हमारे द्वारा खाए जाने वाले जंक फूड के कारण समय-समय पर अपने पाचन तंत्र को साफ करने की आवश्यकता होती है। एलो वेरा जूस (Aloe Vera Juice) पीने से हमारे शरीर को वो हर एक विटामिन, खनिज युक्त पेय मिलता है जो हमारे तनावों से निपटने में मदद करते है।

सूजन को कम करता है: एलो वेरा जूस (Aloe Vera Juice) हमारे जोड़ों के    लचीलेपन में सुधार करता है और शरीर की कोशिकाओं के पुनर्जनन में मदद करता है। यह संयुक्त मांसपेशियों को मजबूत करता है, जिससे कमजोर या वृद्ध लोगों में   जोड़ों के दर्द और सूजन कम हो जाती है।

एलो वेरा जूस (Aloe Vera Juice) के विभिन्न फायदे इस प्रकार हैं:

खुराक: 25-50 मिलीलीटर गुनगुने पानी के साथ दिन में दो बार।

मधुमेह (Diabetes) में उपयोगी:

एलो वेरा रस के प्रतिदिन इस्तेमाल करने से जो मधुमेह के रोगी होते हैं उनका, उच्च रक्त शर्करा (High Blood Sugar) का स्तर कम किया जा सकता है।

कोलेस्ट्रॉल कम करता है:

एलो वेरा का रस कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है। एलो वेरा का रस मधुमेह और इंसुलिन प्रतिरोध वाले रोगियों में उच्च रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है।

पाचन तंत्र के लिए अच्छा:

एलो वेरा हमरे पाचन तंत्र को स्वस्थ रखता है और सूजन और कब्ज से राहत देता है। यह आंत्र के माध्यम से भोजन के पाचन में सुधार करता है।

एलो वेरा (Aloe Vera) के औषधीय उपयोग

एलो वेरा के उपयोग से गठिया का इलाज: ताज़े एलोवेरा के पत्ते का गूदा लें और सरसों के तेल में मिलाकर दर्द वाले स्थान पर मालिश करें। इसके अलावा पत्ता लें और इसे गर्म करें और गूदा निकालें और इसे रुई पर लगाएं और दर्द वाले स्थान पर लगाएं। रस या गूदे के रूप में आंतरिक रूप से लेने पर यह गठिया में भी फायदेमंद है। डायबिटीज के मरीज भी इसे बिना किसी साइड इफेक्ट के ले सकते हैं।

एलो वेरा का उपयोग कर त्वचा की देखभाल: यह त्वचा पर मुंहासों और सूखेपन को दूर करने के लिए लगाया जा सकता है। जब त्वचा जल जाती है तो लुगदी लगाने से राहत मिलती है और जले हुए निशान से बचा जाता है। कभी-कभी जब जलने की वजह से त्वचा सख्त हो जाती है और खुजली होती है और दर्द होता है तो एलो वेरा का गूदा लें और इसमें शहद मिलाएं और प्रभावित हिस्से पर 2 मिनट के लिए छोड़ दें। इसे रोजाना करें और कुछ दिनों में त्वचा मुलायम हो जाएगी और जले हुए निशान भी हल्के हो जाएंगे।

सिर का दर्द: माथे पर एलो वेरा का गूदा लगाएँ।

भूख बढ़ाने के लिए: एलोवेरा जूस पीने से भूख न लगने की परेशानी से छुटकारा मिल जाता है।

बालों की समस्या: रोजाना 50 ग्राम एलोवेरा का सेवन करने से बालों का बार बार  झड़ना बंद हो जाता है। बालों के झड़ने के लिए, बालों का पतला होना या बालों का टूटना रोकने के लिए एलो वेरा की लुगदी को भृंगराज, दही, मुल्तानी मिट्टी के साथ मिलाकर बालों पर लगाएं और धो लें। इससे हमारी बालों की यह समस्याएं भी खत्म हो जायेंगी ।

जिगर या Liver के लिए : 1 किलो एलो वेरा का गूदा लें, इसमें 10 ग्राम काली मिर्च, 50 ग्राम सेंधा नमक और 60 ग्राम नींबू का रस मिलकर सभी को जार में डालें और 10-15 दिनों के लिए धूप में रखें। यह यकृत टॉनिक के रूप में कार्य करता है और सुबह 15-20 मिलीलीटर लिया जा सकता है। यह गठिया और पाचन तंत्र में भी अच्छा है।

कान दर्द के लिए : एलो वेरा का गूदा लें और इसे कान में डालें।

खून की कमी / एनीमिया: एलोवेरा जूस को जौ के  जूस के साथ सेवन करें इससे शरीर में होने वाली खून की कमी दूर हो जाएगी।

एलो वेरा (Aloe Vera) के औषधीय गुण और उपयोग

अनियमित पीरियड और ओवर ब्लीडिंग: 20 ग्राम एलो वेरा पल्प और 2-3 ग्राम गेरू पाउडर (लाल ऑचर) का सेवन करें और मासिक धर्म संबंधी समस्याओं को ठीक करने के लिए इसका सेवन करें।

बच्चों में कब्ज: एलो वेरा का गूदा लें और उसमें चुटकी भर हींग मिलाएं और नाल के पास लगाने से बच्चे की कब्ज से राहत मिलेगी और बच्चे को मल निकासी में मदद मिलेगी।

टखने का दर्द: एलो वेरा का गूदा लें और इसे नरम बनायें और गूदे पर हल्दी पाउडर छिड़कें। इसे तवे पर रखें और धीरे-धीरे गर्म करें और हल्दी पाउडर उबलने लगेगा। फिर इसे तब तक उतार कर ठंडा करे जब तक यह आपकी त्वचा को जलाये बिना लगाने लायक न हो जाये और फिर इसे रुई या कपड़े के साथ त्वचा पर लगाया जा सकता है। तब तक रखें जब तक आप सहज महसूस करें। थोड़ी देर के बाद प्रक्रिया को दोहराया जा सकता है।

बालों की देखभाल के लिए एलो वेरा का उपयोग कैसे करें?

  • आप बालों की जड़ों में एलो वेरा जेल को डायरेक्टली लगा सकते हैं। बालों की जड़ों में एलो वेरा जेल लगा कर 30 मिनट के लिए छोड़ दें और 30 मिनट बाद पानी से सिर धों लें
  • आप एलो वेरा के रस / गुदा को नारियल के पानी और गेहूं के बीज के तेल के साथ मिला सकते हैं। बालों को धोने से पहले बालों की जड़ों की मसाज करने के लिए इसका इस्तेमाल करें। इसका नियमित उपयोग करने से बालों के विकास में मदद मिलती है और बालों को पतला होने से भी रोकता है।
  • आप एलो वेरा जेल का उपयोग क्षतिग्रस्त।/ टूटे हुए बालों को नींबू के रस के साथ मिलाकर भी कर सकते हैं। इस मिश्रण को बाल धोने के बाद लगाएं। इसे बालों में 5 मिनट तक रखें और फिर पानी से धो लें।
  • एलो वेरा बालों के लिए एक प्राकृतिक कंडीशनर है।

जानिए एलो वेरा जूस और जेल के 9 साइड इफेक्ट्स

एलो वेरा अपने चिकित्सा गुणों / शक्तियों के लिए सदियों से प्रसिद्ध है। एलो वेरा में जैल जैसे पदार्थ से भरे हुए रसीले या मांसल पत्ते होते हैं। मांसल पत्तियां तीन परतों से बनी होती हैं, आंतरिक स्पष्ट जेल जिसमें 99% पानी होता है, और बाकी ग्लूकोमैनन्स, एमिनो एसिड, लिपिड, स्टेरोल और विटामिन से बना होता है, लेटेक्स की मध्य परत में एंथ्राक्विनोन और ग्लाइकोसाइड होते हैं, और बाहरी मोटी परत जिसे रिंड कहा जाता है, एक सुरक्षात्मक कार्य करती है, और कार्बोहाइड्रेट, और प्रोटीन को संश्लेषित करती है।

एलो वेरा जेल के शुष्क पदार्थ में पॉलीसेकेराइड (55%), शर्करा (17%), खनिज (16%), प्रोटीन (7%), लिपिड (4%), और फेनोलिक यौगिक (1%) होते हैं। एलोवेरा जेल में कई विटामिन होते हैं जिनमें महत्वपूर्ण एंटीऑक्सीडेंट विटामिन ए, सी, और ई। विटामिन बी 1 (थियामिन), नियासिन, विटामिन बी 2 (राइबोफ्लेविन), कोलीन और फोलिक एसिड शामिल हैं।

जेल जैसे क्षारीय फॉस्फेटस, एमाइलेज, कार्बोक्सीपेप्टिडेज, केटेरेज़, साइक्लोऑक्सीडेज़, लाइपेज़, साइक्लोऑक्सीजिनेज, ऑक्सीडेज़, फ़ॉस्फ़ेनोफायरुवेट कार्बोक्सिलेज, सुपरऑक्साइड डिसूटेज़, ब्रैडीकाइनज़, जो एलो-वेरा जेल को जल्दी जख्म भरने और सूजन कम करने वाला बनता हैं। जबकी इसके अन्य योगिक शर्करा, और वसा के टूटने में मदद करते हैं, और कब्ज, और वजन घटाने में मदद करते हैं।

पाचन में सुधार, ऊर्जा का स्तर बढ़ाने, प्रतिरक्षा बनाने, detoxify करने और सूजन को कम करने के लिए लोग एलोवेरा का रस लेते हैं। एलो वेरा जूस भी वजन घटाने के आहार में लिया जाता है क्योंकि यह चयापचय को उत्तेजित करता है, और शरीर को अधिक तेज़ी से कैलोरी जलाने में मदद करता है, और शरीर के वजन को कम करता है। एलोवेरा में एक एंटीऑक्सीडेंट होता है जो शरीर में मुक्त कणों को नष्ट करने में मदद करता है जिससे शरीर में कोशिकाओं या ट्यूमर की असामान्य वृद्धि हो सकती है।

अब तक हमें एलो वेरा के अनगिनत स्वास्थ्य लाभ पढ़े लिए है। लेकिन किसी भी हर्बल उत्पाद के साथ, यह अनिवार्य नहीं की वह पूरी तरह से सुरक्षित है।

एलो दो पदार्थ, जेल और लेटेक्स का उत्पादन करता है। जेल स्पष्ट, जेली जैसा पदार्थ है, और लेटेक्स पौधे की त्वचा के नीचे से आता है, और रंग में पीला है। यह लेटेक्स आंतरिक उपयोग के लिए असुरक्षित है। इससे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याएं, पेट दर्द, अल्सर, आंतों में रुकावट और एपेंडिसाइटिस हो सकता है। लेटेक्स स्वस्थ गुर्दे को नुकसान पहुंचा सकता है अगर मुसब्बर लेटेक्स के उच्च खुराक का सेवन किया जाता है, विशेष रूप से थोड़े समय के लिए। यदि अधिक मात्रा में इसका सेवन किया जाए तो यह घातक हो सकता है।

इसके अलावा, रस के रूप में एलोवेरा की शुरूआत बाजार में तुलनात्मक रूप से नई है, और कई अध्ययन उपलब्ध नहीं हैं। विशेष रूप से लंबे समय के लिए लेने पर एलोवेरा जूस के कई दुष्प्रभाव हो सकते हैं। आपको ये जानना चाहिए और इसका सजगता पूर्वक डाक्टरी सलाह से उपयोग करना चाहिए।

एलो वेरा से एलर्जी और दुष्प्रभाव

कुछ लोगों में एलो वेरा के उपयोग से पेट में ऐंठन, दस्त, लाल मूत्र, हेपेटाइटिस, दस्त या कब्ज हो सकते है। बहुत लंबे समय तक और ज्यादा मात्रा में एलो वेरा का उपयोग करने से कोलोरेक्टल कैंसर का खतरा बढ़ सकता है । मल को पतला करने वाल एलो वेरा के प्रभाव से इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन (कम पोटेशियम का स्तर) हो सकता है।

यह कुछ लोगों में लालिमा, जलन, चुभने वाली सनसनी और शायद ही कभी सामान्यीकृत चमड़ी की सूजन का कारण हो सकता है। एलर्जी की प्रतिक्रिया ज्यादातर एंथ्राक्विनोन के कारण होती है, जैसे एलोइन और बारबेलोइन। संभव एलर्जी प्रतिक्रिया के लिए परीक्षण करने के लिए पहले इसे श्रीर के एक छोटे से हिस्से में लगाए अगर हमें कोई दुष्प्रभाव न हुआ तो इसे सामान्यता प्रयोग क्र सकते है।

1. कोलोरेक्टल कैंसर का खतरा:

एलोवेरा एक रेचक है। जब लंबे समय तक इस्तेमाल किया जाता है तो इससे पोटेशियम का स्तर कम हो सकता है, और यह कोलोरेक्टल कैंसर के खतरे को बढ़ाता है।

2. पेट की परेशानी

एलो वेरा के चिकनाहट भरे हिस्सा का मौखिक उपयोग करने से पेट में ऐंठन और दस्त की परेशानी हो सकती है।
इसके अलावा, क्योंकि एलो वेरा लेटेक्स एक मल को पतला करने वाला और आतों में चिकनाहट बना के रखता है तो इससे जो दवाये मुँह से ली जाती है उनका अवशोषण कम हो जायेगा और  इसलिए कुछ दवाओं की प्रभावशीलताकम हो जाएगी। 

3. निम्न रक्त शर्करा

मधुमेह वाले जो लोग शर्करा को कम करने वाली दवाइयां उपयोग करते हैं, उन्हें सतर्क रहना चाहिए यदि वह दवाइयां और एलो वेरा एक साथ ले रहे हैं क्योंकि एलो वेरा रक्त शर्करा के स्तर को कम कर जिससे अल्पशर्करारक्तता (Hypoglycemia) हो सकता है।

4. गुर्दे से संबंधित समस्याएं

एलोवेरा जूस में एक निश्चित मात्रा में एलो लेटेक्स होता है जो किडनी पर कठोर प्रभाव डालता है, और इससे गुर्दे की गंभीर बीमारी हो सकती है। एलो वेरा लेटेक्स की उच्च खुराक को गुर्दे की विफलता और अन्य गंभीर स्थितियों से जोड़ा गया है।

5. जिगर की समस्याएं

एलोवेरा को मौखिक रूप से लेने वाले लोगों में तीव्र हेपेटाइटिस के कुछ  मामले रिपोर्ट किए गए हैं। लाल मूत्र, पेट में ऐंठन, हेपेटाइटिस, दस्त या कब्ज का बिगड़ना एलोवेरा से जुड़े कुछ अन्य दुष्प्रभाव हैं। हालांकि, सबूत निश्चित नहीं है।
संभवतः किसी अन्य दवा की पारस्परिक क्रिया (reaction ) हो सकती है।
कुछ दवाओं के साथ सेवन करने पर एलोवेरा जूस से प्रतिकूल प्रतिक्रिया हो सकती है। एलोवेरा जूस भी जड़ी बूटियों जैसे कि जैलैप रूट, कैस्टर ऑयल, रूबर्ब रूट, और बार्क रूट पर प्रतिक्रिया करता है, जिससे डिहाइड्रेशन और दस्त होते हैं।

6. एलर्जी की प्रतिक्रिया

जब एलो वेरा को शरीर पर लगाया जाता  है, तो एलोवेरा जेल संवेदनशील व्यक्तियों में लालिमा, जलन, चुभने वाली सनसनी और शायद ही कभी सामान्यीकृत चमड़ी की सूजन का कारण हो सकता है।

7. अन्य बीमारियों को बढ़ाता है

एलो वेरा का रस बृहदांत्रशोथ (Colitis), क्रोहन रोग (chrohn’s) , पथरी, विपुटित, आंतों के बीच में रुकावट, नकसीर, पेट में दर्द और अल्सर जैसी स्वास्थ्य समस्याओं को बढ़ा सकता है।

8. दिल की बीमारियों की शिकायत करता है

एलो वेरा जूस के सेवन से शरीर में एड्रेनालाईन की अधिक मात्रा पैदा हो सकती है, और दिल की धड़कन बढ़ सकती है या अनियमित हो सकती है।

9. गर्भवती महिलाओं के लिए असुरक्षित

आपको पता होना चाहिए कि एलोवेरा जूस गर्भवती महिलाओं के लिए असुरक्षित  है क्योंकि इसमें प्योरगेटिव और इरिटेंट गुण होते हैं, और यह गर्भाशय के संकुचन, गर्भपात और जन्म दोष को जन्म दे सकता है। स्तनपान कराने वाली महिलाओं को एलो वेरा के उपयोग से दस्त लग सकते हैं। इसे 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए भी असुरक्षित माना जाता है।

एलोवेरा के कई स्वास्थ्य लाभ हैं लेकिन इसके कुछ दुष्प्रभाव भी हैं, इसलिए इसका अधिक मात्रा में उपयोग नहीं किया जाना चाहिए, और वह भी लंबे समय तक और जब भी इसका लम्बे समय के लिए उपयोग करना पड़े तो वह किसी डॉक्टरी सलाह के ही करें।


यहाँ व्यक्त की गई राय Hindiala की निजी राय हैं और हम किसी के विचार का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं। अपने चिकित्सक से परामर्श के बिना अपनी समस्या का निदान या उपचार करने के लिए इस जानकारी का उपयोग न करें।