Puncture Vine Gokhru Plant image

गोखरू, पंचर बेल (Gokhru, Puncture vine) का औषधीय उपयोग

जानते है आयुर्वेद में गोखरू, पंचर बेल (Gokhru, Puncture vine) के स्वास्थ्य लाभ और लाभकारी औषधीय उपयोग क्या हैं। आइये अब हम अपनी स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज के लिए गोखरू के कुछ उपाय जानते है। यह पेशाब सम्बन्धी और पुरुषों के यौन समस्याओं के इलाज के लिए एक अत्यंत गुणकारी जड़ी बूटी है।

गोखरू (ट्रिबुलस टेरेट्रिस) धरती की सतह पर पायी जाने वाली एक औषधीय जड़ी बूटी है जो लगभग पूरे भारत में 3000 मीटर की ऊँचाई तक पाई जाती है। भारत के अधिकांश भाग में इसे गोखरू काटा के नाम से जाना जाता है। इसके कई सामान्य नाम हैं जैसे कैथेड, यलो बेल, गोथेड, बुर्रा गोखरू, पंचर बेल, बिंदी आदि। भारतीय बाजार में ब्रांड नाम “गोखरू काढ़ा”  के साथ बेचा जाता है। यह “दशमूला” को तैयार करने में इस्तेमाल होने वाली दस जड़ों में से एक है।

गोखरू का उपयोग विभिन्न रोगों के उपचार जैसे कि पुरुषों में यौन कमजोरी, गुर्दे के रोग, पेशाब सम्बन्धी समस्या, पेशाब में जलन, सफेद पानी या धात का चलना आदि के इलाज के लिए गोखरू (गोहकरू) का उपयोग किया जाता है।
 
यह शरीर से गुर्दे की पथरी को तोड़ कर बहार निकालने और खत्म करने में मदद करता है। यह बार बार पथरी को बनने से भी रोकता है। गोखरू शरीर में हार्मोन के स्राव को भी बढ़ाता है। यह टेस्टोस्टेरोन (पुरुष सेक्स हार्मोन और एनाबॉलिक स्टेरॉयड) उत्पादन और मांसपेशियों के निर्माण का समर्थन करता है।

लैटिन नाम: ट्रिबुलस टेरिस्ट्रिस लिन (ज़ीगोफिलसी) Tribulus terrestris Linn (Zygophyllaceae)
संस्कृत नाम: लगहु गोखरू
अंग्रेजी नाम: स्माल कैलट्रोप्स, लैंड कैलट्रॉप्स Small Caltrops, land Caltrops
हिंदी नाम: गोक्षुरा, गोखरू Gokshura, Gokhru
कन्नड़: सना नेगिलु
मलयालम: नेरिंगिल
मराठी: सरता
तमिल: नेरुंजी
तेलुगु: पल्लेरू

गोखरू के किन किन हिस्सों को इस्तेमाल में लाया जाता है

  1. फल
  2. जड़ें
  3. पूरा पौधा
Gokhru ya Puncture vine

गोखरू के उपयोग से घर पर किए जा सकने वाले उपचार कौन कौन से हैं

  • यौन कमजोरी, शुक्राणुओं की कम संख्या, नपुंसकता
    गोखरू पाउडर, अश्वगंधा पाउडर को एक कप दूध में उबालें। दस दिनों के लिए दिन में दो बार पिएं। गोखरू में सैपोनिन नाम का एक तत्व होता है जो टेस्टोस्टेरोन के स्राव को उत्तेजित करता है और शुक्राणुओं की वृद्धी कर देता है।

  • गुर्दे की समस्या, गुर्दे की पथरी, बार बार पथरी के निर्माण को रोकता है
    पानी में गोखरू फल या पंचांग (गोखरू जड़ी बूटी के सभी भाग) का काढ़ा तैयार करें और दिन में दो बार पियें।

  • शरीर में सीरम क्रिएटिनिन, रक्त यूरिया, यूरिक एसिड में वृद्धि के स्तर को सही करता है
    गोखरू, सोंठ (सूखा हुआ अदरक), मेथी (मेथी दाना) और अश्वगंधा समान मात्रा में लें। पाउडर बनाने के लिए पीसें। इस चूर्ण को दिन में दो बार लें। इससे यूरिक एसिड कम हो जाता है और सूजन में आराम मिलता है।
  • खाँसी को ठीक करता है
    गोखरू, तुलसी के पत्ते और सोंठ पाउडर लें। पीसने के बाद इसे थोड़ी थोड़ी मात्रा में  लें।

  • बार-बार पेशाब आना, पेशाब में संक्रमण, पौरुष ग्रंथि (प्रोस्टेट) की समस्या
    काले तिल का पाउडर और गोखरू के पाउडर को बराबर मात्रा में मिलाएं। इसे दिन में दो बार लें।

  • पेशाब करने में रुकावट या पेशाब करते समय दर्द
    गोखरू फल (1 चम्मच), धनिया बीज (1/2 चम्मच ) इसे 450 मिलीलीटर पानी में मिलाएं। इसे तब तक पकाएं जब तक कि मात्रा आधी न रह जाए। इस मिश्र्ण को  कुछ दिनों के लिए 2 चम्मच दिन में दो बार पिएं।

  • पेशाब में खून आना
    गोखरू का पूरा पौधा लें। गंदगी और मिट्टी को साफ करने के लिए इसे धोएं। इसे पीसे और 1/4 कप इसका रस निकालें । इस रस को एक कप छाछ / मट्ठा / लस्सी   में मिलाएं और दस दिनों तक पिएं।
Gokhru
  • पीलिया
    पूरे गोखरू के पौधे को लें, इसे साफ करें और छाया में सुखाएं। पाउडर बनाने के लिए पीसें। इस पाउडर को दालचीनी (1 चम्मच), इलायची (6), और मिश्री (1/4 कप) के साथ मिलाएं। इस चूर्ण के (1/2 चम्मच) को पानी के साथ दिन में तीन बार लें।

  • कमजोरी और मांसपेशियों के निर्माण के लिए
    गोखरू, मुलहठी, भृंगराज और आंवला को बराबर मात्रा में मिलाएं। पाउडर बनाने के लिए पीसें और दिन में इस पाउडर को दो बार लें।
  • गर्भाशय में संक्रमण और सूजन
    गोखरू फल (10 ग्राम) और अज्वैन (2 ग्राम) लेकर इसका काढ़ा बनाये और कुछ दिनों के लिए इस काढ़े का सेवन करें।
    यह पाचन तंत्र के लिए भी अच्छा है।

  • महिलाओं की सफेद पानी की समस्या के लिए 
    ताजा गोखरू और भुमी आंवला लें। पीसकर इसका पेस्ट बना लें। इस पेस्ट का 1 बडे  चम्मच को दही के साथ दिन में दो बार 10 दिनों तक लें।
गोखरू में मूत्रवर्धक, कामोत्तेजक को बढ़ाने वाला, सूजन को खत्म करने वाला, एंटी-ऑक्सीडेंट, जीवाणुरोधी और एंटिफंगल गतिविधियां हैं। पेशाब को बढ़ावा देने की इसकी क्षमता का चिकित्सकीय परीक्षण किया जा चूका है।
Puncture Vine

कुछ महत्वपूर्ण दवाएं हैं जिनमें गोखरू प्रमुख तत्व के रूप में इस्तेमाल होता है

“गोखरू चूर्ण (Gokhru churna)” पाउडर के रूप में एक हर्बल आयुर्वेदिक दवा है जिसका उपयोग दर्दनाक पेशाब, यूटीआई, गुर्दे की बीमारियों, सूजन और खांसी के इलाज के लिए किया जाता है।

“गोक्षुरादि गुग्गुल (Gokshuradi Guggul)” एक हर्बल आयुर्वेदिक दवा है। इसमें गोक्षुरु, त्रिफला, त्रिकटु और मुस्ता शामिल हैं। इस दवा में मूत्रवर्धक और विरोधी भड़काऊ गुण हैं और मूत्र समस्याओं के उपचार में संकेत दिया गया है।

“धतुपौष्टिक चूर्ण (Dhatupaushtik Churna)”
एक आयुर्वेदिक औषधि है यह चूर्ण पौष्टिक टॉनिक है और कमजोरी को ठीक करता है। आयुर्वेद में, धातू ऊतकों (Tissue) को संदर्भित करता है, Tissue शरीर को बनाने वाले सबसे महत्वपूर्ण तत्व है।

“अमृतादि चूर्ण (Amrutadi Churna)” हर्बल औषधि है जो गठिया, जोड़ों की सूचन और गुर्दे की पथरी के उपचार में उपयोगी है।


“ऐमिल निरि (Aimil Neeri)
प्राकृतिक अवयवों से तैयार किया गया है और इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के मूत्र विकारों जैसे मूत्र की नाली की पथरी (गुर्दे की पथरी), मूत्र पथ के संक्रमण और प्रोस्टेट संबंधी विकारों के इलाज के लिए किया जाता है।

“चरक फेमिफ़ोर्ट (Charak Femiforte)”
में अशोक, लोधरा और कई अन्य अवयवों की छाल होती है। फेमिफ़ोर्ट (Femiforte) में एक कसैला क्रिया (एस्ट्रिंजेंट एक रसायन होता है जो शरीर के ऊतकों को सिकोड़ता है या रोकता है) होती है जो अत्यधिक योनि स्राव (ल्यूकोरिया) को रोक सकती है।

“हिमालया टेंटेक्स फॉरेस्ट (Himalaya Tentex forte)” में प्राकृतिक तत्व होते हैं और यह एक गैर-हार्मोनल सेक्स उत्तेजक है। इसके सेवन से यौन प्रदर्शन में सुधार होता है। इसमें एंटी-स्ट्रेस और एडाप्टोजेनिक गुण होते हैं।

महिलाओं से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं को ठीक करने के लिए “हेमपुष्पा (Hempushpa)” एक आयुर्वेदिक दवा है जैसे कि पीरियड्स को नियमित करना, खून को शुद्ध करना, चिड़चिड़ापन दूर करना, भूख न लगना और कई अन्य सामान्य स्वास्थ्य को भी ठीक करता है।

“सिस्टोन (Cystone)”
को मूत्र की नाली की पथरी के उपचार और रोकथाम के लिए उपयोग किया जाता है। सिस्टोन टैबलेट और सिरप के रूप में उपलब्ध है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.