HIV AIDS

HIV और AIDS के लिए एक व्यापक गाइड

इस लेख में हम पढ़ेंगे की HIV AIDS क्या है, कैसे फैलता है, इसके फैलने के कारण कौन से होते है, HIV AIDS की जांच कैसे की जाती है, HIV के आरंभिक लक्षण क्या होतें है इत्यादि इत्यादि।

HIV एक वायरस है जो हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को नुकसान पहुंचाता है। प्रतिरक्षा प्रणाली हमारे शरीर को संक्रमण से लड़ने में मदद करती है। अनुपचारित HIV संक्रमित और सीडी 4 कोशिकाओं को मारता है, जो एक प्रकार की प्रतिरक्षा कोशिका होती है जिसे हम टी कोशिका नाम से जानते हैं। समय के साथ, जैसा कि एचआईवी हमारे शरीर की काफी साडी सीडी 4 कोशिकाओं को मारता है, तो धीरे धीरे शरीर को विभिन्न प्रकार के संक्रमण और कैंसर होने की अधिक संभावना बनती रेहती है।

HIV हमारे शरीर में शारीरिक तरल पदार्थ के माध्यम से प्रवेश करता है, शारीरिक तरल पदार्थों में शामिल हैं:

  • रक्त (Blood)
  • वीर्य (Semen)
  • योनि और मलाशय तरल पदार्थ (Vaginal and Rectal fluids)
  • स्तन का दूध (Breat Milk)
HIV का वायरस हवा से, पानी से या किसी को छूने से फैलता नहीं है।
HIV का संक्रमण एक बार हो जाने पर आजीवन रहता है और वर्तमान में इसका कोई इलाज नहीं है, केवल रोकथाम है!  हालांकि पूरे विश्व के वैज्ञानिक इसका इलाज खोजने के लिए काम कर रहे हैं। HIV होने की स्थिति में चिकित्सकिय देखभाल के साथ, जिसमें एंटीरेट्रोवायरल थेरेपी नामक उपचार शामिल है, एचआईवी विषाणु की रोकथाम करना और HIV वायरस के साथ कई वर्षों तक रहना संभव है।

बिना उपचार के, HIV से ग्रसित व्यक्ति को जल्द ही इसके अंतिम चरण जो की AIDS नामक एक गंभीर स्थिति है विकसित होने की संभावना है। उस समय, हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली अन्य बीमारियों और संक्रमणों से लड़ने के लिए बहुत कम हो जाती है, जिसके फलस्वरूप छोटी छोटी बुखार जैसे बीमारिया भी गंभीर रूप ले लेती है। अगर AIDS हो जाता है और सही से इलाज न हो तो मरीज लगभग तीन साल तक ही जिन्दा रह सकता है या इससे पहले भी मृत्यु को प्राप्त हो सकता है।
परन्तु एंटीरेट्रोवायरल थेरेपी के साथ, एचआईवी को अच्छी तरह से नियंत्रित किया जाए तो  HIV के साथ साथ भी वह व्यक्ति एक समान्य व्यक्ति जितनी जिंदगी जी सकता है।

एचआईवी पूरे शरीर में बहुत सारे परिवर्तन का कारण बन सकता है। शरीर में विभिन्न प्रणालियों पर एचआईवी के प्रभाव के बारे में जानने के लिए क्लिक करें।

2017 में NACO के अनुसार भारत में HIV AIDS का आंकड़ा इस प्रकार है।
HIV AIDS Figure as per 2017 India

AIDS क्या है?

AIDS एक वह बीमारी है जो HIV वाले लोगों में फैल सकती है। यह एचआईवी का सबसे अंतिम चरण है। लेकिन अगर किसी व्यक्ति को HIV है तो जरूरी नहीं की उस AIDS होगा, अगर HIV से संक्रमित व्यक्ति समय रहते अपनी ART शुरू कर देता है तो वह अपने आप को एड्स से बचा सकता है।

एचआईवी मानव शरीर की सीडी 4 कोशिकाओं को मारता है। स्वस्थ वयस्कों में आमतौर पर सीडी 4 कोशिकाएं 500 से 1,500 प्रति घन मिलीमीटर की गणना में होती है। HIV से पीड़ित व्यक्ति जिसकी सीडी 4 गिनती 200 प्रति घन मिलीमीटर से कम हो जाती है उसे हम AIDS पीड़ित कहतें है।

हम उस व्यक्ति को AIDS पीड़ित घोषित कर सकते है यदि किसी व्यक्ति को एचआईवी है और उसे एकाएक अवसरवादी संक्रमण या कैंसर हो जाता है क्यूंकि बिना HIV के एकाएक कैंसर होना बहुत मुश्किल है परन्तु ऐसा नहीं है की ऐसा नई हो सकता कुछेक स्थितियों में हो सकता है परन्तु फिर भी दुर्लभ है जिन्हें एचआईवी नहीं है। एक अवसरवादी संक्रमण, जैसे कि निमोनिया, एक ऐसी स्थिति है जो एचआईवी जैसी अनूठी स्थिति का लाभ उठाती है।

अगर HIV का 10 सालों के भीतर पता न चला या इलाज न किया गया तो HIV  AIDS का रूप ले लेगा और AIDS के लिए अभी तक कोई इलाज नहीं है, और उपचार के बिना AIDS पीड़िता की जीवन सीमा  लगभग तीन साल तक होती है। यह जीवन सीमा  इससे भी  कम हो सकती है यदि व्यक्ति को अचानक से कोई एक गंभीर बीमारी लग जाये। हालांकि, एंटीरेट्रोवाइरल दवाओं के साथ इलाज से एड्स को भयंकर रूप में फैलने से रोका जा सकता है।

यदि किसी को AIDS (सीडी 4 कोशिकाओं की गिनती 200 प्रति घन मिलीमीटर से कम हो जाती) हो जाता है, तो इसका मतलब यह है कि एड्स पीड़ित व्यक्ति की रोगों से लड़ने की क्षमता लगभग समाप्त हो चुकी है। इस कारण अब एड्स पीड़ित व्यक्ति उस बिंदु तक कमजोर हो गया है जहां वह अब अधिकांश बीमारियों और संक्रमणों से नहीं लड़ सकता। जिस कारन से अब वह व्यक्ति काफी सारी बीमारियों के प्रति संवेदनशील (कोई भी बीमारी जब आसानी से हो जाये) हो चूका है, जिसमें शामिल हैं:

  • न्यूमोनिया(Pneumonia)
  • टी बी (Tuberculosis)
  • मुँह के छाले, मुंह या गले में एक फंगल संक्रमण
  • साइटोमेगालोवायरस (CMV ), एक प्रकार का हर्पीस वायरस
  • क्रिप्टोकोकल मेनिन्जाइटिस, मस्तिष्क में एक फंगल संक्रमण
  • टोक्सोप्लाज़मोसिज़, एक परजीवी के कारण होने वाला मस्तिष्क संक्रमण
  • क्रिप्टोस्पोरिडिओसिस, एक संक्रमण जो आंतों के परजीवी के कारण होता है
  • कैंसर, लिंफोमा और कपोसी के सरकोमा (KS ) सहित
AIDS का उपचार न होने के साथ जुड़ी छोटी जीवन प्रत्याशा स्वयं सिंड्रोम का प्रत्यक्ष परिणाम नहीं है, बल्कि, यह उन बीमारियों और जटिलताओं का परिणाम है जो एड्स होने के कारण हमारे शरीर की रोग प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करता है। एचआईवी और एड्स से होने वाली संभावित जटिलताओं के बारे में और जानें।

HIV AIDS का क्या संबंध है?

किसी भी व्यक्ति को AIDS तब होगा अगर उस व्यक्ति को पहले से HIV है। परन्तु एचआईवी होने का मतलब यह नहीं है कि HIV पीड़ित व्यक्ति को एड्स होगा ही, अगर समय से HIV का पता चल जाये और सावधानी के साथ इलाज किया जाये तो HIV के सामान्य जीवन जी सकते है।

एचआईवी के मामले इन तीन चरणों में फैलते है :-  

चरण 1: गंभीर चरण (acute stage), फैलने के पहले कुछ सप्ताह बाद
चरण 2: नैदानिक विलंबता (clinical latency), या पुरानी अवस्था
चरण 3: एड्स (AIDS)

HIV AIDS Red Ribben

जैसे ही एचआईवी सीडी 4 सेल की संख्या कम करता है, वैसे ही हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो जाती है। एक विशिष्ट वयस्क की सीडी 4 गणना 500 से 1,500 प्रति घन मिलीमीटर है। 200 से नीचे की गिनती वाले व्यक्ति को एड्स माना जाता है।

HIV से AIDS तक की स्तिथि में आने के लिए विषाणु कितना समय लेता है यह व्यक्ति दर व्यक्ति निर्भर करता है अगर किसी की रोग प्रतिरोधक क्षमता बहुत अच्छी है तो 10 साल से ज्यादा का समय भी ले सकता है। अगर अच्छे से इलाज हो तो HIV अनिश्चित काल तक HIV ही रहेगा AIDS नहीं बनेगा । बिना इलाज के 10 साल के अंदर AIDS का रूप ले लेगा ।

एचआईवी का कोई इलाज नहीं है, लेकिन इसे नियंत्रित किया जा सकता है। एचआईवी वाले लोगों में अक्सर एंटीरेट्रोवायरल थेरेपी के साथ शुरुआती उपचार के साथ एक सामान्य जीवनकाल होता है। इसी इलाज के साथ, एड्स के लिए तकनीकी रूप से कोई इलाज नहीं है। हालाँकि, उपचार किसी व्यक्ति की सीडी 4 गिनती को उस बिंदु तक बढ़ा सकता है जहां उन्हें अब एड्स नहीं माना जाता है। (यह बिंदु 200 या अधिक की गिनती है।) इसके अलावा, उपचार आमतौर पर अचानक होने वाले संक्रमणों को कम करने में भी मदद कर सकता है।

एचआईवी और एड्स एक दूसरे से संबंधित हैं, लेकिन फिर भी दोनों अलग अलग हैं। एचआईवी और एड्स के बीच अंतर के बारे में अधिक जानें।

HIV संक्रमण कैसे फैलता है - तथ्यों को जाने?

HIV का संक्रमण किसी को भी हो सकता है, HIV हमारे शरीर में निम्नलिखित शारीरिक तरल पदार्थ के माध्यम से प्रवेश करता है:-

  •     रक्त (Blood)
  •     वीर्य (Semen)
  •     योनि और मलाशय तरल पदार्थ (Vaginal and Rectal fluids)
  •     स्तन का दूध (Breat Milk)

एचआईवी इन कुछ तरीकों से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता हैं:

योनि या गुदा मैथुन (शारीरिक संबन्ध) के माध्यम से – यह HIV संक्रमण फैलने का सबसे आम मार्ग है, विशेष रूप से पुरुषों में जो पुरुषों के साथ यौन संबंध रखते हैं
एक ही सुई, सीरिंज, इंजेक्शन और अन्य वस्तुयें जिनसे दवा को हमारे शरीर की नसों या मांसल में डाला जाता है  (एक ही इंजेक्शन के बार बार उपयोग के द्वारा जैसे Drug User / नशा करने वाले करते है)
टैटू बनाने के उपकरणों का उपयोग करके उन्हें बिना कीटाणु मुक्त किये उपयोग करने से  
गर्भावस्था, प्रसव, या प्रसव के दौरान एक महिला से उसके बच्चे को

स्तनपान के दौरान माँ से उसके बच्चे को
लार (Saliva) के माध्यम से जैसे काफी देर तक फ्रेंच किस्स करने से या बच्चे को अपने मुँह से चबा कर खाना खिलने से (अभी तक साक्ष्य उपलब्ध नहीं है)
HIV पीड़ित व्यक्ति को लगी सुई से Needle Stick Injury (ये अधिकतर अस्पताल के सवास्थ्य कर्मियों के साथ होता है) के संपर्क में आने से।

HIV का वायरस किसी को HIV संक्रमित रक्त चढाने से, HIV पीड़ित व्यक्ति का अंग या ऊतक / मांस तंतु (Tissu) किसी को प्रत्यारोपण करने से फ़ैलता है। हालांकि, रक्त, अंग और ऊतक / मांस तंतु (Tissu) दाताओं का पहले अच्छे से जांच किया जाता है परन्तु अगर अंग देने वाले का HIV संक्रमण के बाद का window period हो तो HIV जांच में पता नहीं चलता और यह फ़ैल सकता है पर ऐसा अभी तक बहुत दुर्लभ है।

निम्न एचआईवी फैलने के माध्यम सैद्धांतिक (theoretically) रूप से संभव है, लेकिन असलियत (practically) में बेहद दुर्लभ माना जाता है:

ओरल सेक्स (केवल तब ही जब मसूड़ों से खून बह रहा हो या व्यक्ति के मुंह में खुले घाव हों)
एचआईवी वाले व्यक्ति द्वारा काटा जाना (केवल अगर लार में खून है या व्यक्ति के मुंह में खुले घाव हैं)
त्वचा पर कोई जख्म या घाव या श्लेष्मा झिल्ली टूटी हो और एचआईवी पीड़ित के साथ सवस्थ व्यक्ति के खून के संपर्क से

एचआईवी इससे नहीं फैलता:

किसी के छूने से (त्वचा से त्वचा का संपर्क)
गले मिलने, हाथ मिलाते हुए, या गाल पर या हाथ पर चुंबन करने से
हवा या पानी (एक ही टब्ब में नहाने से) से
भोजन या पेय पदार्थों को साझा करने से
लार, आँसू या पसीना (जब तक कि एचआईवी वाले व्यक्ति के रक्त में मिला न हो)
एक शौचालय, तौलिये या बिस्तर को साझा करने से
मच्छर या अन्य कीड़े के काटने से

एचआईवी संचरण के बारे में अधिक जानें।

एचआईवी होने का कारण

यह मन जाता है कि एचआईवी किन्शासा कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य ( मध्य अफ्रीका) में उत्पन्न हुआ था, 1920 के आसपास। वैज्ञानिकों को संदेह है कि सिमियन इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस (SIV) ने चिंपांजी से मनुष्यों के लिए कूद लिया जब लोग संक्रमित चिंपांजी के मांस का सेवन करते थे। में जब एचआईवी ग्रसित चिंपांज़ी का मास वहां के लोगों ने खाया तब यह चिंपांज़ी से मनुष्यों में आया था। 1980 के दशक तक, हम नहीं जानते थे कि कितने लोग एचआईवी या एड्स से संक्रमित थे।

कई दशकों में एचआईवी पूरे अफ्रीका में एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल गया। आखिरकार, वायरस दुनिया के अन्य हिस्सों में चला गया। वैज्ञानिकों ने पहली बार 1959 में मानव रक्त के नमूने में एचआईवी की खोज की थी।

एड्स होने का कारण​

एड्स एचआईवी का अंतिम चरण होता है। यदि कोई व्यक्ति एचआईवी संक्रमित नहीं है तो उसे एड्स नहीं हो सकता है।

स्वस्थ व्यक्तियों में 500 से 1,500 प्रति घन मिलीमीटर की सीडी 4 कोशिका की गणना होती है। उपचार के बिना, एचआईवी सीडी 4 कोशिकाओं को बढ़ा या नष्ट करना जारी रखता है। यदि किसी व्यक्ति की CD4 गणना 200 से नीचे आती है, तो उन्हें हम एड्स पीड़ित कहते है।

इसके अलावा, यदि एचआईवी वाले किसी व्यक्ति को एचआईवी से जुड़े एकाएक कोई संक्रमण का फैलता है, तो उनमे भी एड्स का पता जांच द्वारा किया जा सकता है, भले ही उनकी सीडी 4 गिनती 200 से ऊपर हो।

एचआईवी का पता करने के लिए कौन कौन से परीक्षण / जांच किए जाते हैं?

एचआईवी का पता करने के लिए कई अलग-अलग परीक्षणों का उपयोग किया जा सकता है। स्वास्थ्य कार्यकर्ता / डॉक्टर निर्धारित करते हैं कि किस व्यक्ति के लिए कौन सा परीक्षण सबसे अच्छा है।

एंटीबॉडी / एंटीजन परीक्षण

एंटीबॉडी / एंटीजन परीक्षण सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले परीक्षणों में से एक हैं। अगर कोई व्यक्ति HIV के सम्पर्क में आता है तो इस जांच के द्वारा आमतौर पर 18 से 45 दिनों के भीतर सकारात्मक परिणामों का पता लगा सकते है की उस वयक्ति को एचआईवी है या नहीं।

इस परीक्षण में एंटीबॉडी और एंटीजन के लिए रक्त की जांच करते हैं। एक एंटीबॉडी एक प्रकार का प्रोटीन है जिसे हमारा शरीर, शरीर में होने वाले संक्रमण से लड़ने के लिए बनाता है। दूसरी ओर, एक एंटीजन, वायरस का हिस्सा है जो हमारी बीमारी से रक्षा करने की प्रणाली को सक्रिय करता है।

एंटीबॉडी परीक्षण

एंटीबॉडी परीक्षण से केवल रक्त की जांच की जाती हैं। HIV के संपर्क में आने के 23 और 90 दिनों के बीच हमारे शरीर में HIV का पता लगाने वाले एंटीबॉडी पनपते है जो की हमारे रक्त या लार में पाए जा सकता है।

ये परीक्षण रक्त परीक्षण या मुंह के swab (एक तरह की लार इकट्ठा करने का तरीका) का उपयोग करके किए जाते हैं, और इसके लिए अलग से कोई आवश्यक तैयारी नहीं करनी होती है। इनमे से कुछ परीक्षण का परिणाम 30 मिनट या उससे कम समय में मिल जाता हैं । यह परीक्षण किसी भी सरकार द्वारा सुनिश्चित की गई प्रयोगशाला या किसी डॉक्टर द्वारा किया जा सकता है।

भारत के सभी सरकारी अस्पतालों में जहाँ ICTC (integrated counseling and Testing Center) है वहां ये एकदम फ्री में किये जाते है। यदि आपको कभी भी लगे तो आप निसंकोच होकर अपने नजदीकी ICTC center में जाकर अपना HIV जांच करा सकते है। सिर्फ जांच ही एक माध्यम है जिससे इस बीमारी का प्राथमिक चरण में पता चल सकता है और आप अपने और अपने परिवार की HIV से रक्षा कर सकते है ।

यदि किसी को संदेह है कि वे एचआईवी के संपर्क में हैं, लेकिन एक परीक्षण में नकारात्मक परीक्षण किया गया है, तो उन्हें तीन महीने में परीक्षण दोहराना चाहिए।
क्यूंकि बहुत सरे मामलों में 1 से 3 महिने HIV का window period होता है जिस दौरान यह जांच में भी नहीं आता।

न्यूक्लिक एसिड टेस्ट (NAT)

यह महंगी परीक्षा सामान्य स्क्रीनिंग के लिए उपयोग नहीं की जाती है। यह उन लोगों के लिए है जिनके एचआईवी के शुरुआती लक्षण हैं या उनमें कोई जोखिम कारक है। यह परीक्षण हमारे एंटीबॉडी को नहीं दिखता है; यह वायरस के लिए ही दिखता है। एचआईवी को रक्त में पता लगाने में 5 से 21 दिन लगते हैं। यह परीक्षण आमतौर पर एंटीबॉडी परीक्षण के साथ होता है या इसकी पुष्टि की जाती है।

आज, एचआईवी के लिए परीक्षण करना पहले से कहीं ज्यादा आसान है।

एचआईवी का विंडो अवधि क्या है?

जैसे ही कोई एचआईवी के सम्पर्क में आता है, यह धीरे धीरे उनके शरीर में फैलना शुरू कर देता है। हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली एंटीजन (वायरस के कुछ हिस्सों) से एंटीबॉडी (कोशिकाओं जो वायरस से लड़ती है) का उत्पादन करने पर्तिकिर्या शुरू कर देता है।

एचआईवी से जब किसीका सम्पर्क होता है और जब ये यह हमारे रक्त में पता लगाने योग्य हो जाता है, जिससे पता चलता है की HIV संक्रमित है या नहीं तो इसे एचआईवी का विंडो अवधि कहा जाता है। अधिकांश लोग संक्रमण के बाद 23 से 90 दिनों के भीतर पता लगाने योग्य एचआईवी एंटीबॉडी विकसित करते हैं।

यदि कोई व्यक्ति विंडो की अवधि के दौरान एचआईवी परीक्षण करता है, तो संभावना है कि इसका नतीजा नकारात्मक हो सकता है। हालांकि, वे इस समय के दौरान वायरस को दूसरों तक पहुंचा सकते हैं। यदि किसी को लगता है कि वे एचआईवी के संपर्क में आ सकते हैं, लेकिन इस दौरान नकारात्मक परीक्षण किया गया है, तो उन्हें पुष्टि करने के लिए 3 महीनों में परीक्षण को दोहराना चाहिए (समय परीक्षण किए गए परीक्षण पर निर्भर करता है)। और उस समय के दौरान, उन्हें संभवतः एचआईवी फैलाने से रोकने के लिए सुरक्षित शारीरिक संबंध या कंडोम का उपयोग करने की आवश्यकता होती है।

विंडो के दौरान नकारात्मक परीक्षण करने वाला कोई व्यक्ति पोस्ट-एक्सपोजर प्रोफिलैक्सिस (पीईपी दवाइयां) से लाभान्वित हो सकता है। यह एचआईवी को रोकने के लिए एक्सपोज़र के बाद ली जाने वाली दवा है। पीईपी को एक्सपोज़र के बाद जितनी जल्दी हो सके लेना चाहिए; इसे एक्सपोज़र के बाद 72 घंटे से पहले लिया जाना चाहिए, न की 72 घंटे के बाद।

1 thought on “HIV और AIDS के लिए एक व्यापक गाइड”

  1. Pingback: Sardi-Jukham, cold & Flu कैसे फैलता है इसके लक्षण, इसका इलाज

Leave a Comment

Your email address will not be published.